Dard Bhari Shayari - Best Two Line Shayari ever - The Shayari

दर्द भरी शायरी 

The Shayari - Dil Ki Baat Kalam Se * Hi Friends, today I am going to share with you some sad and Dard Bhari Shayari, I hope all of you like it if you really it then don't forget to share it with your dear one....


Har Bar Daulat par aa kar ruk jati hai zindgi meri,
Koi mughse Pyar karta to baat aur thi....

the shayari Dil ki baat kalam se
The Shayari

हर बार दौलत पर आ कर रुक जाती है ज़िंदगी मेरी
कोई मुघसे प्यार करता तो बात और थी !!!

Mughe nafrat pasand hai,
Magar Dikhawe ka Pyar nhi!

The Shayari - Dil ki baat kalam se - dard bhari shayari
The Shayari - Dard Bhari Shayari
मुघे नफरत पसंद है,
मगर दिखावे का प्यार नहीं !

TIMEPASS karna hai to kuch aur kar lo,
PYAR koi mazak nhi!

The Shayari - Dil ki baat Kalam se - Dard bhari shayari
The Shayari - Dard Bhari Shayari

टाइमपास करना है तो कुछ और कर लो,
प्यार कोई मज़ाक नहीं !!!

Kab tak vo mera hone se inkaar karega,
Khud tut kar vo ek din mughse pyar karega,
Ishq ki aag me usko itna jala denge,
ki izhaar vo mughse sare-e-bazaar karega.

The Shayari - Dil ki baat Kalam se - Dard Bhari Shayari
The Shayari - Dard Bhari Shayari
कब तक वो मेरा होने से इंकार करेगा
खुद टूट कर वो एक दिन मुघसे प्यार करेगा
इश्क़ की आग में उसको इतना जला देंगे
की इज़हार वो मुघसे सरे-इ-बाजार करेगा !!

Ik Raat Wo Jahaa Gaya Tha Baat Rok Kar,
Ab Tak Baitha Hoon Wahi Wo Raat Rok Kar!

इक रात वो जहाँ गया था बात रोक कर,
अब तक बैठा  हूँ वही वो रात रोक कर!

Shishe ki tarah kuch toota hua hai
Na jane piche kya chhuta hua hai
Mughse juda hi rhi har khushi
Shayd jigar ka tukda koi rutha hua hai ...

शीशे की तरह कुछ टूटा हुआ है
ना जाने पीछे क्या छूटा  हुआ है
मुझसे जुदा ही रही  हर खुशी
शायद  जिगर का टुकड़ा कोई रूठा हुआ है ...


Teri mehfil me bhid to thi par mahool bada veeran tha
Mughe yu tere kareeb dekh kar har shaksh pareshan tha...

तेरी महफ़िल मे भीड़ तो थी पर माहोल  बडा  वीरान था
मुझे  यू तेरे करीब देख कर हर शकस परेशन था...

Jaao, Azad Ho Ab Tum In Hawao Me Udne Ko,
Par Fir Koi Pankh Tumhare Jala De To, Laut Aana....

जाओ, आज़ाद हो अब तुम इन हवओ मे उड़ने को,
पर फिर कोई पंख तुम्हारे जला दे तो, लौट आना....

Taqleef mit gayi lekin ehsaas reh gaya
Khush hu ki chalo kuch to mere paas reh gaya...

तक़लीफ़ मिट गयी लेकिन एहसास रह गया
खुश हू की चलो कुछ तो मेरे पास रह गया...

Yaha sab khamosh hai Koi aawaz nahi karta
Sach bolkar koi kisi ko naraz nahi karta...

यहा सब खामोश है कोई आवाज़ नही करता
सच बोलकर कोई किसी को नाराज़ नही करता...

Mughse dost nahi badle jate ,chaahe lakh doori hone par
Logo ke bhagwaan badal jate hai murad na puri hone par...

मुझसे  दोस्त नही बदले जाते ,चाहे लाख दूरी होने पर
लोगो के भगवान बदल जाते है मुराद ना पूरी होने पर...

Bahut aandhera tha uske sath jindgi ke safar me
Phir roshni ke liye hamne khud ko jala diya..

बहुत अँधेरा  था उसके साथ जिंदगी  के सफ़र मे
फिर रोशनी के लिए हमने खुद को जला दिया...

Muddat se koi aaya na gaya, sunsan padi hai ghar ki fazaa,
In ḳhali kamron me, ab shama jalau kis ke liye..!!

मुद्दत से कोई आया ना गया, सुनसान पड़ी है घर की फ़ज़ा,
इन खाली  कमरों मे, अब शमा जलाउ किस के लिए..!!


Yu to alfaaz nahi hai mere paas mehfil me sunane ko
Khair koi baat nahi zakhmo ko hi kured deta hu...

यू तो अल्फ़ाज़ नही है मेरे पास महफ़िल मे सुनाने को
खैर कोई बात नही ज़ख़्मो को ही कुरेद देता हू....

Kiski panaho me tujko gujare ae jindgi
Ab to raasto ne bhi keh diya hai ghar kyu nahi jate...

किसकी पनाहो मे तुजको गुज़रे ए  जिंदगी
अब तो रास्तो ने भी कह दिया है घर क्यू नही जाते...

Wo bewafa hai abhi mujpe julm dhayega
Ke baad marne ke wo mujpe taras khayega
Jo apne ghar ki hifajat na kar sake
Wo ghar kisi ka bhala kis tarh bachaygea..

वो बेवफा है अभी मुझपे  ज़ुल्म ढाएगा
के बाद मरने के वो मुझपे  तरस खाएगा
जो अपने घर की हिफ़ाज़त ना कर सके
वो घर किसी का भला किस तरह बचायगे


If you have your own Thoughts than you can submit your own thoughts in contact us form or can comment below. I will post your Shayari with your name.

Thanks for your Love and keep visiting if you like these Shayari.

Comments